जो धोनी-गांगुली नहीं कर सके वो विराट करके दिखाएंगे

भारतीय क्रिकेट टीम 26 दिसंबर से दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ (India vs South Africa) पहला टेस्ट मैच खेलेगी.

इस बार टीम इंडिया के पास विराट कोहली (Virat Kohli) के नेतृत्व में इतिहास रचने का मौका है.

भारतीय टीम पहली बार 1992 में अफ्रीका के दौरे पर गई थी. पिछले 29 सालों में भारत ने अफ्रीका की धरती पर सात टेस्ट सीरीज खेला लेकिन विजेता बनने में असफल रहा.

भारत के धाकड़ कप्तान रहे सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) और महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) भी वहां टेस्ट सीरीज जीतने में नाकाम रहे.

दक्षिण अफ्रीका को उसी की सरजमीं पर हराना टेढ़ी खीर है लेकिन विराट इतिहास बदल सकते है.

टीम इंडिया के पास जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, ईशांत शर्मा और मोहम्मद सिराज जैसे कहर ढाने वाले गेंदबाज है.

अक्षर पटेल और रवींद्र जडेजा चोटिल होने की वजह से सीरीज से बाहर हैं. ऐसे में रविचंद्रन अश्विन 7वें नंबर पर ऑलराउंडर की भूमिका निभा सकते हैं.

सौरव गांगुली की कप्तानी में भारत साल 2001 में दक्षिण अफ्रीका दौरे पर गया था. हालांकि उसे दो टेस्ट मैचों की सीरीज में 1-0 से हार का सामना करना पड़ा.

वहीं महेंद्र सिंह धोनी  की कप्तानी में भारत ने दो बार दक्षिण अफ्रीका का दौरा किया है. धोनी की कप्तानी में पहली बार साल 2010-11 में भारतीय टीम अफ्रीका की धरती पर टेस्ट सीरीज ड्रॉ कराने में सफल रही.

कोच द्रविड़ से सीख लेने के बाद कोहली ने कैमरे की ओर देखकर किए ऐसे इशारे