लकवाग्रस्त शख्स ने सिर्फ सोचा और अपने आप ही ट्वीट में सेंड हो गया मैसेज, जानें क्या है नई तकनीक

ऑस्ट्रेलिया में एक लकवाग्रस्त शख्स सीधे विचार के ज़रिए मैसेज ट्वीट करने वाला पहला व्यक्ति बन गया है.

दरअसल पेपर क्लिप साइज़ जितने एक छोटे से ब्रेन इंप्लान्ट द्वारा ये मुमकिन हो पाया है.

ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले 62 साल के फिलिप O कीफ, (Philip O’Keefe) पिछले सात साल से एमियोट्रोफिक लेटरल स्क्लेरोसिस (ALS) से पीड़ित हैं, जिसके चलते वह अपने ऊपरी अंगों को हिला-डुला नहीं पाते हैं.

उन्होंने ट्वीट किया,’अब Keystrokes (कीबोर्ड पर टाइपिंग या Voices (आवाज़) की ज़रूरत नहीं है, मैंने इस ट्वीट को सिर्फ सोच कर क्रिएट कर दिया. #helloworldbci.’

उन्हें 2015 में मोटर न्यूरॉन डिजीज के एक रूप (ALS) का पता चला था, और इन्होंने 23 दिसंबर को स्टेंट्रोड ब्रेन कंप्यूटर इंटरफेस (बीसीआई) का इस्तेमाल करके अपने डायरेक्ट सोच को सफलतापूर्वक टेक्स्ट में बदल दिया.

फिलिप ने मैसेज भेजने के लिए सिंक्रॉन के सीईओ थॉमस ऑक्सली का ट्विटर हैंडल इस्तेमाल किया था.

Thank You